एसिडिटी/अम्लपित्त के कारण,लक्षण और उपाय : Acidity ka ilaj

एसिडिटी/अम्लपित्त के कारण,लक्षण और उपाय : Acidity ka ilaj

पेट गैस या एसिडिटी का इलाज
Acidity Treatment in Hindi

 

  • रोज़ दही और लस्सी पिए।
  • केला हर रोज़ एक खाना चाहिए।
  • खाली पेट नारियल पानी पिए एसिडिटी दूर होगी।
  • खाना खाने के बाद थोड़ी सा गुण खा लेना चाहिए।
  • अजवाइन का सेवन पानी के साथ करे तो एसिडिटी में फायदा होगा।
  • रोज़ सुबह उठते ही खाली पेट २ से ३ गिलास पानी पीना चाहिए।
  • कुछ ठंडी चीज़ जैसे आइसक्रीम खाने से पेट की जलन कम हो जाएगी।

 

 

Appendix
विषय सूची

 
  1. एसिडिटी के बारे में जाने - Know about Acidity in Hindi
  2. एसिडिटी के कारण - Acidity Causes in Hindi
  3. एसिडिटी के लक्षण - Acidity Symptoms in Hindi
  4. एसिडिटी से बचाव - Prevention of Acidity in Hindi
  5. एसिडिटी में परहेज़ - What to avoid during Acidity in Hindi
  6. गैस / एसिडिटी का आयुर्वेद इलाज - Ayurvedic Acidity Treatment in Hindi
  7. पेट में जलन का घरेलू उपचार - Pet mein Jalan ka Desi Upchar in Hindi

 

एसिडिटी के बारे में जाने
Know about Acidity in Hindi

 

जानिये दादी माँ के घरेलु नुस्खे फॉर एसिडिटी/होम रेमेडीज फॉर एसिडिटी इन हिंदी और पाइये एसिडिटी से छुटकारा। पाचन के लिए पेट में एसिड पैदा होता है मगर यह अगर अधिक मात्रा में बने तो फिर आपको एसिडिटी होती है। पेट में दर्द या सीने में जलन महसून होती है। (और पढ़े :- एसिडिटी का घरेलू उपचार)

एसिडिटी के कारण और कई प्रॉब्लम कड़ी हो सकती है इसीलिए इसका इलाज फ़ौरन करना चाहिए। एंटासिड टेबलेट लेना सही उपाय नहीं है क्योंकि इसके साइड इफेक्ट्स होते है। वर्षो से आयुर्वेद में एसिडिटी के लिए जड़ी बूटी है और दादी माँ के घरेलु नुस्खे फॉर एसिडिटी भी बहुत ही असरकारक है। इसका कोई साइड इफेक्ट्स नहीं है और आप एसिडिटी की परेशानी से छुटकारा पाएंगे। अगर आप को सीने में और गले में जलन है और गैस का खट्टा डकार आता है तो यह सब में से निम्नलिखित कोई भी घरेलु नुस्खे से अम्लपित्त का शमन होता है।

 

एसिडिटी के कारण
Acidity Causes in Hindi

 

  • पहले तो जानिये एसिडिटी के कारण। खुराक के पाचन के लिए पेट में हाइड्रोक्लोरिक एसिड उत्पन्न होता है। यह एसिड तत्व को कंट्रोल में रखने के लिए बिकारबोनिट उत्पन्न करता है। 
  • मगर प्रोस्टाग्लैंडीन और बिकारबोनिट का उत्पादन न हो सके तो पेट के अंदर का भाग को नुकसान पहुँचता है और इससे एसिडिटी होता है। 
  • बहुत तीखा और मसालेदार खुराक से एसिडिटी होती है। अगर आपको तनाव हो तो एसिडिटी की सम्भावना है। 
  • ज्यादा धूम्रपान और मदिरापान से भी एसिडिटी होता है। पेट में अलसर हो तो एसिडिटी होती है। कई दवाई से भी एसिडिटी होता है। एसिडिटी के लक्षण जानिये। 

 

एसिडिटी के लक्षण
Acidity Symptoms in Hindi

 

  • पेट में जलन होना।
  • गले में जलन।
  • बेचैनी होना।
  • उलटी जैसा लगना।
  • बद हज्मी।
  • खाना पचता नहीं है।
  • कब्ज़ की शिकायत रहती है।  

और पढ़े :- इन 11 तरीक़ो से करे क़ब्ज़ का रामबांड इलाज

 

एसिडिटी से बचाव
Prevention of Acidity in Hindi

 

अगर आप से हो सके तो दो दिन तक बिलकुल उपवास करे और अपने शरीर को डेटोक्सीफी करे। शरीर में टोक्सिन और इंडिगेस्टिव से भी पेट में एसिडिटी होती है। यहाँ पेट की गर्मी का इलाज आप जरूर जानिये और अपनाये और बाद में यहाँ बताये एसिडिटी का घरेलु उपचार का प्रयोग करे। उपवास के बाद दो दिन तक सिर्फ फलाहार करे और अनाज का सेवन न करे। एसिडिटी से परेशान लोगो को तेल वाले चीज़ से दूर रहना चाहिए और उबली हुई सब्जियां माखन और घी का उपयोग करना चाहिए।

1) जीवनशैली में बदलाव - Lifestyle Change to Reduce Acidity in Hindi

  • अगर आप का लाइफस्टाइल ऐसा है की आप पूरे दिन डेस्क पर बैठे काम करते है तो दिन के शुरुआत में और रात को हल्का सा व्यायाम करने की आदत डाले। 
  • अगर १० मिनट योग करे तो भी आपका स्ट्रेस रिडक्शन होगा और एसिडिटी से रिलीफ मिलेगा।
  • खाना धीरे-धीरे प्रफुल्लित मन से खाना चाहिए। 
  • भूखे पेट न रहे और हर ४ घंटे में थोडासा खा ले। 
  • दिन भर पानी खूब पीने की आदत रखे। 
  • अगर दूध से एलर्जी न हो तो एक गिलास दूध पिए। मगर दूध कभी-कभी एसिडिटी बढ़ता है तो सावधानी के साथ इस्तेमाल करे। 
  • अपने बिस्तर का लेवल चेंज करे। सर के भाग में बिस्तर को थोड़ा ऊँचा कर दे। 
  • वजन कम करे। मोटापे से कई समस्या कड़ी हो जाती है। 
  • शुगर याने चीनी का उपयोग बिलकुल कम करे या तो बिलकुल बंद कर दे। 

और पढ़े :- 3 असरदार पेट दर्द के घरेलू इलाज    

 

एसिडिटी में परहेज़
What to avoid during Acidity in Hindi

 

एसिडिटी का ट्रीटमेंट करने से बेहतर है की आप एसिडिटी से बचे रहे- ​

1) एसिडिटी में क्या नहीं खाना चाहिए - What Avoid to eat during Acidity in Hindi 

  • ऐसे खाद्य पदार्थ से दूर रहे जिससे एसिडिटी होता है जैसे की तले हुए और ज्यादा मसालेदार खुराक।
  • कॉफ़ी, शराब और ज्यादा चाय ख़ास करके खाली पेट पीने से बचे।
  • धूम्रपान कम करे या तो बंद ही कर दे। अगर आप को एसिडिटी है। 

और पढ़े :- पेट ठीक से साफ न हो तो अपनाएं ये तरीके

2) एसिडिटी में क्या खाना चाहिए - What to eat during Acidity in Hindi

पहले तो आप यह साधारण एसिडिटी के घरेलु उपचार का प्रयोग करे। खाना खाने के बाद एक गिलास उबला हुआ पुदीना का पानी का सेवन करे।

  • खाने के बाद एक टुकड़ा गुड़ खाने से भी एसिडिटी का शमन होगा।
  • एक केला भी उत्तम है एसिडिटी को रोकने के लिए।
  • आप मीठा छाछ या तो लस्सी भी पी सकते है तो एसिडिटी कंट्रोल में रहेगा। अगर खाना पसंद है तो च्युइंग गम का उपयोग करे तो सलीवा से एसिडिटी का शमन होगा।
  • सवेरे उठके खाली पेट अदरक का रस गरम पानी में मिलाये। इसमें जीरा पाउडर डाले, निम्बू का रस मिलाये और शहद मिला के पी ले तो पूरे दिन एसिडिटी से सुरक्षित रहेंगे। 
  • खाने में कद्दू, पत्तागोभी, प्याज, गाजर का उपयोग करे। 
  • फ्रूट्स में तरबूज, खरबूजा, चीकू और पाइनएप्पल भी आपको अच्छा फायदा देंगे। यह सभी पेट में जलन का घरेलु उपचार है जो की कोई नुकसान नहीं पहुचायेंगे।
  • एक हेल्थी प्रैक्टिस जो आप अपना सकते है एसिडिटी से छुटकारा पाने के लिए वो यह है- सवेरे एक बर्तन में एक चम्मच सौंफ, एक चम्मच जीरा, एक चम्मच अजवाइन और एक  चम्मच सवा के बीज को डालकर उबाले और इस पानी को छान के दिन भर इसी को पीते रहिये। इससे पेट सम्बंधित कई समस्याओ में राहत मिलती है। 
  • तुरंत आराम चाहिए तो एक गिलास में एक चम्मच बेकिंग सोडा मिलाकर पी ले।

 

गैस / एसिडिटी का आयुर्वेद इलाज
Ayurvedic Acidity Treatment in Hindi

 

एसिडिटी के साथ कभी-कभी गैस भी हो जाता है। एसिडिटी एंड गैस प्रॉब्लम सलूशन जानिये।

  • थोड़ा सा जायफल के टुकड़े को चूसने से भी एसिडिटी और गैस में राहत मिलेगी।
  • अजवाइन और हींग का पाउडर बना के पानी में मिला के पीने से भी एसिडिटी और गैस का शमन होता है। 
  • हल्दी के साथ सेंधा नमक मिलाये और दूध में घोल दे और इसका सेवन करे तो गैस और एसिडिटी की परेशानी दूर हो जायेगी। 
  • चन्दन का पेस्ट बना के पेट के ऊपर लेप करे और थोडासा दूध में घोल के पीने की आदत रखे।

और पढ़े :- 5 minute मे कहे पेट दर्द को अलविदा जाने कैसे?

1) अमला, नींबू, अदरक है एसिडिटी के लिए फायदेमंद -  Amla, Nimbu and Ginger Benefits for Acidity in Hindi

  • आंवला खट्टा है और निम्बू भी खट्टा है और अदरक बहुत तेज है तो इनका मिश्रण कैसे पेट में अमला को कम करता है यह आश्चर्य की बात होगी मगर बात यह है की आयुर्वेदिक गुण आंवला का है की पाचन पर इसका रस मधुर है और निम्बू का रस भी पाचन होने पर मधुर होता है और अदरक में रहे गिंजरोल से सूझन और गैस का शमन होता है। 
  • आयुर्वेदिक पद्धति से आंवला और गैस हटाने के लिए आंवला चूर्ण, अदरक का रस और निम्बू का रस पानी में शहद मिला के खाली पेट सेवन करे और रात को सोने के पहले भी।

और पढ़े :- आंवला के फायदे और नुकसान

2) एसिडिटी की समस्या का घरेलू उपाय है इलाइची - Cardamom good for Acidity in Hindi

  • दिन भर इलाइची का एक के बीज मुँह में रख के इसके रास पेट में उतरने दे तो एसिडिटी काम हो जायेगा. खाने के बाद एक इलाइची अपने मुँह में रखे और इसका रस चूसे। 
  • इलाइची में है लिमनेने, मेन्थोने, मीरन, कीनोल और सबीनेने जैसे उड़नशील तेल जो पेट में जाके सूझन कम करते है अमला का नाश करते है और गैस का भी शमन होता है तो २ इलाइची का काढ़ा बना के पीये तो तुरंत एसिडिटी में लाभ होता है। 
  • हर रोज खाने के बाद एक इलाइची खाये तो पाचन क्रिया बढ़ जाती है और आम रस पैदा नहीं होता है।

3) एसिडिटी की समस्या में हरड़ का करें प्रयोग - Harad for Acidity in Hindi

  • Aap chahe to harad ka churna le ya to phir triphala powder ko paani mein mila ke raat ko bhojan ke baad le to acidity ka rukavat hoga. 
  • Harad ya haritaki ya harde mein hai kai rasayan jaise ki glucopyranose, chebulinic acid, gallic acid, punicalagin aur tannic acid jo pet aur aant mein amla ka nirman par rok laga dete hai aur paida hue aamvikar ka pratikar kar dete hai isiliye khane ke adhe ghante pehle ek chamach harde khaye to jaroor fayda hoga. 
  • Harad ke sath baheda ka bhi upyog kare to aant mein soojhan kam ho jaata hai aur yeh bhojan karne ke ek ghante baad le.

और पढ़े :- जानिये हरड़ के उपयोग और फायदे

4) मेथी है एसिडिटी की समस्या का घरेलू नुस्खा - Fenugreek good for Acidity in Hindi

  • Methi ki sabji sabhi tarah se sehat ke liye achcha hai aur acidity ko bhi bhaga dega. 
  • Methi dane mein hai chikna lachila padarth jo pet mein jaa ke ek parat bana deta hai aur acid ka asar nahin hone deta hai aur parinam hai ki pet mein jalan aur dard nahin hoga. 
  • Behtar yeh hai ki acidity mein methi daane bhigo ke rakhe aur khane ke adhe ghante pehle is ka sevan kare gud aur saunf ke saath.

और पढ़े :- मेथी दाना खाने के फायदे

5) एसिडिटी की परेशानी में सौंफ का करें उपयोग - Fennel seeds for Acidity in Hindi

  • Saunf ek chamach khaaye khaana khaane ke baad. Is se badhazmi nahin hoga aur gas bhi control mein rahega. Yaa fhir Saunf ke beej, savaa ke beej, til ke beej aur ansh matra mein ajwain ke beej aur jeera sabhi ko halka sa sek le haldi ke paani mein bhigo ke sukane ke baad. Bhojan ke baad ek chamach chabale to heartburn ya acidity nahin hoga
  • Saunf ke beej mein hai anethole naam ka rasayan jo pet mein hone vali ainthan aur acidity ke kaaran hone vale jalan ka shaman karti hai aur pachan bhi sudhar deti hai to acidity mein khane ke baad ek chamach saunf ko chabaye is pareshani se chutkara paane ke liye. 
  • Garmiyon mein khas acidity agar pareshan karti hai to saunf ke beej ko bhigo ke is ke paani ke sharbat mein gulab ke pankhudi aur cheeni mila ke peeye to daah ka shaman hoga aur aap chahe to gulkand aur saunf bhi khaye bhojan ke baad. 

और पढ़े :- एसिडिटी को दूर करने के लिए आम के गुण

6) पुदीना और हरा धनिया है एसिडिटी के लिए गुणकारी - Pudina and Coriander leaves for Acidity in Hindi

  • Pudina ka sharbat peene se aap ko acidity and gas problem solution milega. Yaa fhir ap khaane ke saath pudina aur hara dhaniya ka chutney upyog karne se aap ko acidity ki samasya nahin rahegi.
  • Acidity se peedit ho to bhojan ke baad chaach mein hare dhaniye ke patte ko baarik kaat ke dale aur fir jeera aur sendha namak mila ke sevan kare aur is mein pudina milaye to aur bhi fayda hoga. 
  • Pudine mein bhi aise rasayan hai jo thandak dete hai aur acid pratikarak hai to pudine ki chaai adrak daal ke banaye aur shahad mila ke sevan kare.

7) तरबूज के बीज एसिडिटी में पहुचाये लाभ - Watermelon Seeds for Acidity in Hindi

  • Garmiyo mein tarbooj khana sabhi ko pasand hai. Tarbooj aur uske beej acidity ke liye bahut hi faydemand hai to avashya enjoy kare.
  • Tarbuj mein hai citrulline jo pet mein aamras ka pratikar karta hai magar is ke beej aur bhi labhkari hai pet mein acidity ke liye kyonki in mein hai arginine, lysine aur linoleic acid  jo acidity ka mukabla karte hai. 
  • Tarbuj ke beej ko thoda namak laga ke sukhaye aur fir tave mein halka bhun ke har roj 25 gram jitna khaye to acidity niyantran mein rahega.

और पढ़े :- तरबूज खाने के फायदे

8) एसिडिटी की समस्या में दालचीनी और शहद है सहायक - Cinnamon and Honey benefits for Acidity in Hindi

  • Agar jalan aur dard hai to fauran dalchini powder ko shahad mein mila ke dheeme se chaate. Turant acidity mein hoga relief. 
  • Dalchini mein hai tej rasayan cinnamaldehyde jo pet mein acid ka utpadan hone par rok lagata hai aur pachan kriya bhi majboot kar deta hai aur sath mein gas ka shaman hota hai to acidity mein dalchini ki chai bana ke peeye aur is mein pudina, shahad aur chamomile dale to aur bhi achcha. 
  • Aur kuch nahin to khane ke baad dalchini powder adha chamach le aur ek chamach shahad mein mila ke dheeme se chaate to acidity ki samasya khadi nahin hogi.

और पढ़े :- दालचीनी के फायदे और नुकसान

9) एसिडिटी की समस्या में मुलेठी का करें प्रयोग - Licorice for Acidity in Hindi

  • Mulethi (यष्टिमधु) ka ek tukda muh mein rakhe aur is ka ras dheere se pet mein utarne de. 
  • Yashtimadhu yane mulethi mein mukhya tatva hai glycyrrhizin jo acid ka pratikar karta hai aur saath mein anya tatva jaise ki glabrene, lichochalcone aur glabridin jo gas shaamak hai, soojhan kam karte hai aur pachan sudhar deta hai. 
  • Acidity mein mulethi ka upyog karna hai to is ke churna ke saath shahad mila ke chaate bhojan ke baad ya to ek tukda mulethi ke jad ka mooh mein rakh ke is ka ras chooste rate.

और पढ़े :- मुलेठी के फायदे और नुकसान

10) एसिडिटी के लिए पियें नारियल का पानी  -  Milk of Coconut for Acidity in Hindi

  • Nariyal pani alkaline hai aur is mein hai potassium ke saath anya aise rasayan jo pet mein jaa ke pet ke acid ko nishkriya kar dete hai. 
  • Acidity mein nariyal pani ka upyog kare khane ke adhe ghante pehle. Chahe to din mein 3-4 baar nariyal paani pee sakte hai aur agar acidity ka attack aa ke pet mein jalan hone lage to nariyal pani se turant raahat milta hai. 
  • Green coconut yaane ki nariyal ka paani acidity ko bilkul kam kardega. 

11) एसिडिटी की समस्या का घरेलू उपाय है दही - Curd Benefits for Acidity in Hindi

  • Meetha dahi khaane se acidity kam ho jayega. Yaad rahe ki doodh peene se turant aaram to hota hai magar acidity aur badh bhi sakta hai. 
  • Doodh se acidity badhta hai kyonki doodh ko pachane ke liye pet mein acid ka nirman badh jaata hai to doodh na piye acidity mein balki dahi ka upyog kare kyonki is mein rahe lactic acid or lactobacillus bacteria se pet mein jalan shant ho jaata hai. 
  • Acidity mein dahi se raahat pane ke liye khatta na ho aisa dahi le chota katori aur is mein adha chamach jeera powder aur sendha namak mila ke sevan kare din mein 2 baar. 

और पढ़े :- दही खाने के अदभुत फायदे रोज़ खाए दही बहुत लाभकारी

12) केला है एसिडिटी के लिए गुणकारी - Bananas Benefits for Acidity in Hindi

  • Tasty kela ek khaaye aur kare acidity door. Kele mein potassium adhik maatra mein hai aur magnesium bhi aur yeh dono padarth pet mein jaa ke pet mein rahe acid ko nishprabhavit kar dete hai jis se jalan aur dard nahin hota hai. 
  • Acidity mein adhik pakke kele na khaye aur kele ko kaat ke sendha namak aur jeera chidak ke khaye bhojan ke 10 minute ke baad. 

और पढ़े :- केले के फायदे और नुकसान

13) एसिडिटी की समस्या का घरेलू उपाय है मूली - Radish good for Acidity in Hindi

  • Mooli ka ras nikale aur is mein thodasa kali mirch powder daal ke iska sevan kare to acidity yaane amlapitta se aap ko raahat milega.
  • Muli mein khanij padarth jaise ki potassium aur zinc achchi maatra mein hai aur pachan hone par vipak madhur hai to acidity mein muli khane se jalan aur soojhan kam ho jaata ai. 
  • Acidity ke liye muli ka gharelu upay kare is prakar: muli ka ras nikale aur jeera aur sendha namak mila ke sevan kare khane ke baad ya to chaach mein mila ke sevan kare. 

14) एसिडिटी के लिए फल और सब्जी है लाभदायक - Fruit and Vegetables Benefits for Acidity in Hindi

  • Pineapple, seb, kheera, kaddu, patta gobhi, gajar khaane se acidity ka prakop nahin hoga. 
  • Acidity se raahat pane ke liye sahi aahar le jis mein fal aur sabji adhik pramaan mein ho to in me rahe khanij padarth se pet ka acid nishkriya ho jaayega. 
  • Sabji mein paalak, kaddu, phool gobhi, patta gobhi, mooli, gajar aur kheera bahut labhdayi hai aur falo mein seb, papita, kele aur tarbuj acidity mita dete hai.

और पढ़े :- पपीते के फायदे बनाये पाचन प्रक्रिया को बेहतर

 

पेट में जलन का घरेलू उपचार
Pet mein Jalan ka Desi Upchar in Hindi

 

Acidity mein pet mein jalan hota hai. Pet me jalan ke gharelu upchar se aap ko turant aaraam milega. Pet mein jalan ke liye baking powder ko paani mein daal ke peene turant aaraam milega.

1. Doosra tarika hai ki aap kumari (aloe vera) ka juice ka sevan kare. Aloe vera acidity ke liye ek uttam upchar hai. Turant aaraam milega aur is ka rojana sevan karne se acidity se aap bache rahenge. 

2. Patta gobhi agar aap ke paas uplabdh hai to is ka mixer mein juice banake peene se jalan se fayda hoga. 

3. Gajar ka ras pet me jalan ke liye vishvasniya upchar hai. 

4. Dalchini powder aur yashti madhu powder ka mishran le aur is ko shahad ke saath mila ke goli banaye aur is goli ko chooste rahiye. 

5. Kachcha papita ka juice bhi labhdayak hota hai agar aap ko acidity se pet me jalan hota hai. Yeh ek uchch pet me jalan ka gharelu upchar hai. 

6. Agar aap ko aur koi cheez haath na lage to phir kela to aap avashya le sakte hai. Home remedies for acidity and gas problems mein kela ka uch sthan hai. Kele ke slice aise hi khaaye ya to phir jeera aur sendha namak daal ke is ka sevan kare. 

7. Aap ke paas hamesha tulsi ke patte, laung aur elaichi ko rakhe. Poore din bhar is ko mooh mein rakhne se pet mein jalan, acidity se dard or gas ki samasya mein raahat milta hai. Apne paas badam bhi rakhe. 2-3 badam khaate rehne se pet mein jalan nahin hoga kyonki yeh acid ko neutralize karta hai. 

8. Nariyal ka paani bhi pet mein hone wale jalan se chutkara dega. 

9. Ek aur uchch ayurvedic jadi booti jo pet sambandhit taklif mein uttam hai to voh hai guduchi ya giloy. Is ka choorna ka sevan karne se aap ko kaafi laabh hoga. 

10. Doosra ayurvedic upay hai ki aap trifala (baheda, amla aur harad) churna khane ke baad sevan kare. Roj ek chamach bahut ho gaya aap ke pet ko saaf rakhne mein aur vikaro se bachane ke liye. 

11.  Ashwagandha bhi ek anmol jadi booti hai jisko doodh mein milake peene se aap ko acidity se chutkara milega. 

To yeh hai pet mein gas ka ilaj. Saath saath aap ko khaana khaane ke baad 10-20 minutes ka walking karna chahiye jis se pachan majboot hoga aur gas ka sangrah nahin hoga. Acidity, gas aur jalan se aap pareshan hai to vyayam bilkul jaroori hai. Morning walk se din ki shuruat kare aur raat ko bhojan ke baad bhi walk kare. Sone se 3 ghante pehle khaana khaaye aur deri se khaana khane ki aadat ko taale. 

TAGS : #pet ki garmi ka ilaj in hindi #seene me jalan ka ilaj #acidity ka gharelu ilaj #pet me jalan ka gharelu upchar in hindi #pet ki garmi #acidity ke lakshan in hindi #acidity ke upay in hindi #acidity ka gharelu upchar in hindi #acidity ka ilaj #pet ki garmi ka gharelu ilaj #gharelu nuskhe for acidity in hindi #dadi maa ke nuskhe in hindi for acidity #home remedies for acidity in hindi #acidity problem solution in hindi

Leave a Comment

Your Name

Comment

16 Comments

Taaabij, May 27, 2018

Slad aur sabzi dono time khao

Ashok Hanada, May 27, 2018

Pet saaf kaise hoga koi daadi maan ka gharelu nuskha bataiye

Devendar kumar, Nov 11, 2017

Mujhe 3 saal se pet mai problem hai gas banti hai pet mai khichav chakar aana weakness automatic pet khali ho jana khana khaya ho to bhai pet khali mehsus hona main medicine leke pareshaan ho gaya hun hamesha upset rehta hun. please try to help me

ज़य प्रकाश, Sep 22, 2017

सर मेरा नाम ज़य है. मे 22 एअर ओल्ड हूँ अभी हाल ही में 2 सेप्ट को मुझे मॉर्निंग में चेस्ट में पेन हुआ लाइट सा चकर आया दोस्तो ने डॉक्टर के पास लेके गये डॉक्टर ने बोला कुच्छ नहीं ओन्ली एसिडिटी है फिर मुझे वैसे ही मेहसुंस होने लगा तन डॉक्टर ने कहा की आप ई सी जी करा लो ई सी जी नॉर्मल आ गयी फिर डॉक्टर ने बोला इको करा लो वो भी नॉर्मल आ गयी डॉक्टर ने कहा की एसिडिटी है ओर कुछ नहीं देन टॅब्लेट्स दिए और रात को हि भेज दिया ओर रेनसम लिक्विड दिया बस ओर फिर अचानक मुझे 7 सेप्ट को वैसे ही चकर आया ओर सामने ब्लॅक आउट जैसा फील हुआ डॉक्टर के पास गया वो बोले कुच्छ नही असिडिटी है फिर डॉक्टर परसों मुझे अचानक रात 11 बजे चकर आया मुझे लगा मैं तो बेहोश हो जाउन्गा देन डॉक्टर के पास लेके गया मेरा भाई मुझे तुरंत डॉक्टर ने बोला कुच्छ नहीं असिडिटी है ई सी जी भी करा लिया पर वो भी नॉर्मल पता नहीं अब भी वैसे ही महसूस हो रहा है मुझे बताओ डॉक्टर किया करूँ मैं बहुत परेशान हो गया हूँ|

deepak, Sep 01, 2017

Sir mujhe acid banta h jis wajah se heart ki tarf bhi dard rehta h left hand aur fingers m bhi dard hota h sab test kraye h kuchh pta ni chalta plz kuchh samadhan bataye.

 

Neelam, Nov 02, 2017

Same problems hai pet dard waali mujhe aap daadi maa ke tips den sab kuchch thik ho jaayega

neha, Aug 26, 2017

mere pet mein roz aag si jalti hai koi acidity ke liye gharelu upchar batain

Shrawan Kumar, May 08, 2017

Sir mujhe pet me jalan h aur bhukh nahi lagti, hath pero me jalan hoti h aur ghabrahat hoti h krpiya koi ilaj bataye , sab test karva liya lekin koi bimari nahi aati h

ln sisodia, May 29, 2016

sir mujhe bahut gas banti h jabki m 3month se simple food kha raha hu.... roj gas se kabhi back pain kabhi chest pain....... kya kru parmanent ilaj bataye

Harika, May 09, 2016

adrak ke ras mein nimbu aur shahed mila ke pine se pet ki jalan kafi had tek shant ho jati hain.

Gulika, May 08, 2016

kya adrak ka ras bhi pet ki jalan shant kerta hai ....

Gulika, May 07, 2016

kya adrak ka ras bhi pet ki jalan shant kerta hai ....

Dhatrisri, May 06, 2016

acidity ke bahut sare karan hote hain inmin ek hain masaledaar aur junk food khana , khane mein animiyata, theek se chaba ke na khana yeh karan bahut aam hain jo hum rozmara ki routine mein dhyan nahi dete.

 

yuvraj koli, Jun 24, 2016

Pitta ke karan khana gale se neeche he nahi uter raha hai kripya pitta ka ramban elaaz batayain.....!!!

Chatura, May 05, 2016

kripya batain acidity ke kya karan hote hain ...

Dharmesh patel, Apr 27, 2016

sir, muje khana na pachna aur bar bar muh se thuk aane ka problem hai. to muje ilaj bataye.

 

Afaq khan, May 04, 2016

Dahi aur nimbu pani piya karo shi ho jayegi jaldi

Akuti, Mar 18, 2016

dahi ka sewan kerne se acidity se bacha ja sakta hai

hem raj, Mar 17, 2016

yes I agree, good for acidity