गर्भपात के बाद फर्टिलिटी (गर्भधारण) व सेक्स का सही समय - Fertility and Sex after Miscarriage in Hindi

गर्भपात के बाद फर्टिलिटी (गर्भधारण) व सेक्स का सही समय - Fertility and Sex after Miscarriage in Hindi

गर्भपात के बाद सेक्स और गर्भधारण का सही समय (The Right Time to Resume Sex and Become Pregnant After Abortion in Hindi) – थे रिघ्त टाइम तो रेज़्यूमे सेक्स आंड बिकम प्रेग्नेंट आफ्टर अबॉर्षन ना चाहते हुए भी ऐसे संजोग होते है की महिला को गर्भपात करवाना पड़ता है| मन्न में यह सवाल पैदा होता है की गर्भपात हो जाने के बाद क्या सावधानी रखे, कब फिर से सेक्स शुरू कर सकते है और फिर से कब गर्भधारण कर सकते है| इन सभी सवालो का जवाब पाए यहाँ पर गर्भपात के बाद से संबंधित|

गर्भपात के बाद सेक्स और गर्भधारण का सही समय :-

  1. गर्भपात के बाद आम सावधानी - Precautions after Abortion in Hindi
  2. गर्भपात के बाद खास सावधानी - Special Precautions after Abortion in Hindi
  3. क्या पहले हुए गर्भपात (एबॉर्शन) से दोबारा गर्भवती होने की संभावनाओं पर असर पड़ता है - Does an Abortion affect Chances of Pregnancy in Future in Hindi
  4. गर्भपात के बाद गर्भधारण का सही समय कब होता है - Which is the Right time to Conceive after an Abortion in Hindi
  5. गर्भपात के बाद जनन क्षमता - Fertile Period to get Pregnant in Hindi
  6. बार बार संभोग करना गर्भवती होने के लिए - Frequent Sex to get pregnant in Hindi
  7. महिला की महावरी का मासिक चक्र - Woman Monthly cycle to get Pregnant in Hindi
  8. 2 मंथ के बेबी को कैसे एबॉर्शन करे - Aborton after 2 Months of Pregnancy in Hindi
  9. ३ मंथ के बाद एबॉर्शन कैसे करे हिन्दी मे - Abortion Methods after 3 months Pregnancy in Hindi
  10. 5 वीक्स का बच्चा गिर जाने पर कितने दिन तक दोबारा प्रेग्नेंट नहीं होना चाहिए – Time Period to wait after Medical Termination of Pregnancy after 5 weeks of Pregnancy in Hindi
  11. गर्भपात के बाद फिर से महावरी कब आती है - When do Periods start after Abortion in Hindi

गर्भपात के बाद आम सावधानी - Precautions after Abortion in Hindi

  • महिला की हालत एबॉर्शन के बाद उसके आम स्वास्थ पर आधारित है और कितने हफ्ते प्रेग्नेन्सी के बाद गर्भपात करवाया और किस तरीके से—गोली से या तो सर्जिकल प्रोसेस (D&C) से|
  • गर्भपात के बाद पेट मे दर्द रहता है कई दिनों तक तो हल्की खुराक ले और ज़्यादा श्रम ना करे|
  • खून का बहाव भी रहता है और यह साधारण बात है मगर भारी बहाव और ज़्यादा दिनों तक चले तो ज़रूर डॉक्टरी जाँच करवाए| साधारण बहाव के लिए सैनिटरी पैड का उपयोग करे|
  • गर्भपात के बाद थकान होना, स्तनों मे जलन और उल्टी जैसा होना यह साधारण बात है|
  • गर्भपात के बाद तुरंत स्नान ना करे क्योंकि कमज़ोरी और चक्कर से गिर सकती है महिला|
  • तीखे और ज़्यादा नमकीन चीज़ ना खाए और व्यायाम भी ना करे|
  • गर्भनिरोधक गोली ज़रूर ले एबॉर्शन के थोड़े दिनों के बाद अगर एबॉर्शन के बाद सेक्स करना है|
  • आफ्टर एबॉर्शन विच टाइम सेक्स डु इन हिन्दी भी जानना जरूरी है| कम से कम दो हफ्ते तक रुकिये और अगर सब कुछ ठीक ठाक हो जाए तभी शुरू करे नहीं तो और थोड़ी देर इंतेज़ार करे|

गर्भपात के बाद खास सावधानी - Special Precautions after Abortion in Hindi

  • गर्भपात के बाद मानसिक तौर पर महिला ज़्यादा परेशान रहती है और गिल्टी फील करती है तो घर के सदस्या और खास कर के पति को बहुत नर्मी और सहानुभूति से पेश आना ज़रूरी है|
  • गर्भपात के बाद खास ध्यान रखे की संक्रमण ना हो जाए इसीलिए सेनेटरी पैड लगाए तो बारी बारी बदलते रहे और चेकउप भी करवा ले|
  • गर्भपात के बाद कमज़ोरी के कारण खास ध्यान रखे की ज़्यादा श्रम वाला काम ना करे और खाने में भी परहेज रखे|
  • गर्भपात के बाद एक बार खास प्रेग्नेन्सी टेस्ट करवा ले ताकि सफल है या नहीं इसका अंदाज़ा लगाया जा सके|
  • दुर्गंध वाला स्त्राव हो तो खास चेक उप और इलाज करवाए|
  • गर्भपात के बाद सेपटिक शॉक, बुखार हो सकता है तो बहुत ध्यान देना चाहिए ऐसे हालात में की तुरंत इलाज करवाए|
  • अगर पेट मे बहुत दर्द होता है तो यह चिन्ह् है की भ्रूण का कोई हिस्सा अभी अंदर रह गया है तो डॉक्टरी इलाज करवाना होगा|

क्या पहले हुए गर्भपात (एबॉर्शन) से दोबारा गर्भवती होने की संभावनाओं पर असर पड़ता है - Does an Abortion affect Chances of Pregnancy in Future in Hindi

  • मिसकैरेज के बाद प्रेग्नेन्सी इन हिन्दी जानिए की अगर एक या दो बार किया है और बच्चे गिरने के सही समय को ध्यान मे रख के गर्भपात के घरेलू नुस्खे या तो गोली के सहारे किया है तो गर्भ धारण करना मुश्किल नहीं है|
  • मगर कई बार जो गर्भपात किया है और सर्जिकल पद्धति याने D&C से किया है तो गर्भाशय के मुख को हानि पहुँचती है और अंडाशय की नली भी संकुचित हो जाती है तो फिर गर्भधारण करना मुश्किल हो जाता है|
  • मिसकैरेज के बाद प्रेग्नेन्सी तब और भी मुश्किल हो जाती है अगर कोई संक्रमण हो जाए योनि या गर्भाशय या अंडाशय में|
  • गर्भपात में गर्भाशय के अंदर की परत को नुकसान हो जाए तो फिर गर्भधारण करना मुश्किल हो जाता है|
  • गर्भपात के बाद फिर से गर्भ धारण करना है तो कम से कम एक महीने और उचित यह है की 6 महीने तक रुके ताकि शरीर संपूर्ण तरीके से ठीक हो जाए|
  • आम तौर पर गर्भपात के बाद फिर से गर्भ धारण करने मे कोई तकलीफ़ नहीं है, बस थोडासा ध्यान दे और समय गुजरने दे|

गर्भपात के बाद गर्भधारण का सही समय कब होता है - Which is the Right time to Conceive after an Abortion in Hindi

  • यह ग़लत फैमी मे ना रहे की एबॉर्शन के 15 दिन बाद सेक्स करने पर गर्भ नहीं ठहरेगा| एबॉर्शन के बाद प्रेग्नेन्सी कब होती है का जवाब है की तुरंत भी हो सकती है अगर अंडाशय में से अंडा बाहर निकला और रास्ते मे शुक्राणु मिल गये| यह महिला के स्वास्थ के लिए ठीक नहीं है इसीलिए गर्भ निरोधक यंत्र या गोली का उपयोग करे| 6 महीने बीत जाने के बाद ही गर्भ धारण करना योग्य है और यह बात बड़ी गंभीरता से ले क्योंकि इतना समय लगता है गर्भाशय को साधारण होने में|
  • एबॉर्शन के कितने दिन बाद पीरियड आता है यह भी एक प्रश्न है| यह आधार रखता है की महिला के अंडाशय मे से अंडा कब बाहर निकलता है| यह 7 दिनों में, 15 दिन मे भी हो सकता है और एक महीने पर भी| कितनी देरी से एबॉर्शन करवाया है उस पर आधारित है| देरी से किया है तो शरीर मे एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन की मात्रा कम हो के फिर से महावरी का दौर शुरू होता है| एक महीने मे महावरी आ सकती है मगर सेक्स करे तो गर्भनिरोधक साधन का उपयोग करे और 6 महीने के बाद ही गर्भ धारण का सोचे|
  • अगर गर्भ ठहरने के थोड़े हफ्ते में ही गोली या प्राकृतिक ढंग से गर्भपात किया है तो हालत जल्दी से ठीक हो जाते है और एक महीने के बाद जब नियमित महावरी शुरू हो जाए तब आप गर्भधारण करने का सोच सकती है मगर D&C किया है गर्भ ठहरने के 3 महीने के बाद तो फिर उचित है की 6 महीने तो कम से कम रुके|

गर्भपात के बाद जनन क्षमता - Fertile Period to get Pregnant in Hindi

  • गर्भपात के बाद जनन क्षमता इस पर आधार रखती है की कितनी देर गर्भावस्था होने के बाद गर्भपात किया है|
  • गर्भ ठहरने के 12 हफ्ते बाद तक एबॉर्शन की दवाई जैसे की मिसोप्रोस्टॉल (misoprostol)या मिफेप्रेस्टोने(mifeprestone) से गर्भपात हो सकता है| 3 महीने के गर्भपात मे सेक्स किया जा सकता है जब महिला को लहू का स्त्राव और दर्द कम हो जाए क्योंकि गोली से लहू का स्त्राव ज़्यादा होता है| ऐसे तो एक महीने के बाद जब महिला ठीक हो जाए तो सेक्स हो सकता है मगर लंबे समय तक धीरज रखे तो उचित होगा|
  • ऐसे ही 3 महीने गर्भ ठहरा हो तब तक या सिरिंज को गर्भाशय मे दाखिल कर के वैक्यूम द्वारा भ्रूण को निकालना इतना कष्टदायक नहीं होता है| 2 मंत के गर्भपात के बाद सेक्स कब कर सकते है तो जानिए की इस तरह का गर्भपात किया हो तो एक महीने में महिला स्वस्थ होने पर फिर से सेक्स करे तो गर्भवती हो सकती है| मगर यह ध्यान में रखे की गर्भाशय की अंदरूनी परत को ठीक होने में समय लगता है और 6 महीने तक रुके गर्भधारण करने के पहले तो ठीक होगा| तब तक गर्भ निरोधक पद्धति का उपयोग करे ताकि एक महीने के बाद सेक्स करे मगर गर्भ ना ठहरे|
  • तीसरा तरीका है डाइलेशन और क्यूरेटेज (dilation and curettage)जिसमे एक चम्मच जैसे यंत्र से गर्भाशय के अंदर की परत को घिस के भ्रूण को निकाला जाता है और यह पीड़ादायक होता है|
  • एक और तरीका है वैक्यूम का जो मशीन द्वारा किया जाता है|
  • सवाल यह भी उठेगा की एबॉर्शन के कितने दिन बाद पीरियड आता है तो हर एक महिला के लिए यह अलग होता है और कितने महीने गर्भवती होने के बाद गर्भपात किया उस पर भी आधार है| कई महिलाओ को कई महीने लग जाते है तो कई महिलाओ को एक महीने मे महावरी नियमित हो जाती है| आम तौर पर 4 हफ्ते से लेके 12 हफ्ते में महावरी सही हो जाती है| ऐसा भी होता है महिलाओ में की गर्भपात के बाद तुरंत अंडा निकलता है और ऐसे में हफ्ते 10 दिन में सेक्स किया तो गर्भवती हो सकती है|

बार बार संभोग करना गर्भवती होने के लिए - Frequent Sex to get pregnant in Hindi

  • 2 मंथ के गर्भपात के बाद सेक्स कब कर सकते है तो महिला के स्वास्थ पर आधारित है| अगर रक्त स्त्राव बंध हो जाए और वो स्वस्थ हो जाए और इच्छा हो जाए तो 15 दिन के बाद या तो महीने के बाद करे| मगर तुरंत गर्भवती होना ठीक नहीं है इसीलिए कंट्रासेप्टिव इस्तेमाल करे 6 महीने तक|
  • D&C या वैक्यूम द्वारा गर्भपात के बाद 15 दिन सेक्स करने पर प्रेग्नेंट हो सकते है महिला क्योंकि ऐसे मे लांडशे में से अंडा निकला और योनि की तरफ बढ़ा तो शुक्राणु मिलते है फिर से महिला गर्भवती होती है|
  • इसी तरह 2 मंथ के गर्भपात के बाद सेक्स कब कर सकते है तो हर एक की हालत अलग होती है और महिला स्वस्थ होने पर फिर से संभोग शुरू करे मगर 6 महीने तक तो गर्भनिरोधक पद्धति अपनाए|
  • महिला 6 महीने के बाद ही फिर से पूरी तरह सक्षम हो जाती है फिर से गर्भ धारण करने के लिए तो यह मान लेना ग़लत है की बारंबार सेक्स करे तो फ़ौरन गर्भवती होगी|
  • दरअसल गर्भ तभी ठहेरता है जब अंडाशय में से अंडा बाहर निकलता है और योनि मार्ग की तरफ बढ़ता है और इस दौरान शुक्राणु से मिलन होना चाहिए| याने की महावरी आए और उसके 14 मे दिन पर अंडा निकलता है तो उसके एक दिन पहले से लेके एक दिन बाद तक संभोग पश्चात गर्भ ठहरना  शक्य है| इसके लिए शुक्राणु भी तेज होने चाहिए इस लिए हर रोज सेक्स करने के बजाये शुक्राणु बचा के रखे और हर तीसरे दिन करे|

महिला की महावरी का मासिक चक्र - Woman Monthly cycle to get Pregnant in Hindi

  • गर्भपात के बाद फिर से दुबारा गर्भ धारण करना है तो महिला के महावरी मासिक चक्र को जानना ज़रूरी है|
  • भ्रूण स्थापित होने पर और आगे आगे उसका विकास होने पर महिला के शरीर मे एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन हॉर्मोन का स्त्राव रहता है और दिमाग़ से भी सिग्नल भेजे जाते है जिससे अंडे का विकास और उसका निकलना बंद हो जाता है| अगर 3 महीने पर गर्भपात किया है तो यह हॉर्मोन्स का शमन होने मे और फिर से शरीर को अंडा पैदा करके बाहर निकालने का चक्र स्थापित करने मे समय लगता है और यह हर एक महिला मे अलग होता है| कम से कम एक महीने का समय तो लग जाता है और सामान्यता 2 महीने लग जाते है| मगर ऐसा भी होता है की अंडा अंदर रह जाए और 45 दिवस गर्भपात किया हो तो सेक्स करने पर तुरंत फिर से गर्भवती होना संभव है|
  • कई महिलाओ को जो पहली महावरी आती है गर्भपात के बाद तो उसमे खून का स्त्राव ज़्यादा होता है क्योंकि शरीर गर्भाशय मे बची हुई मासपेशियोको बाहर निकाल देता है|
  • कई महिलाओ को 2 साल तक महावरी अनियमित रहती है जब तक शरीर की हालत संतुलन में नहीं आती है|
  • सामान्य तौर पर एक बार महावरी होने के 14 में दिन पर अंडाशय में से अंडा निकल के गर्भाशय तक प्रयण करता है और इस दौरान अगर शुक्राणु मिल गया तो अंडा  गर्भाशय मे स्थापित हो के महिला गर्भ धारण कर लेती है| अगर शुक्राणु नहीं मिला तो वो बाहर निकल जाता है और पहले महावरी के करीब 28 दीनो के बाद दूसरी महावरी होती है|

2 मंथ के बेबी को कैसे एबॉर्शन करे - Aborton after 2 Months of Pregnancy in Hindi

  • गर्भ धारण होने के 3 महीने तक गर्भपात करने मे ज़्यादा ख़तरा नहीं है| 2 मंथ के बेबी को एबॉर्शन करने के अलग तरीके है|
  • एक तरीका है मेडिकल एबॉर्शन जो दवाई के सहारे होता है| बच्चे गिरने का सही समय 3 महीने गर्भवस्था का है तो 2 महीने के अंदर गर्भपात करना है तो खास गोली है जो है मिफेप्रइस्टोने और मिसोप्रोस्टॉल(mifepristone aur misoprostol)|यह गोली खाने के 12-15 घंटे मे रक्त स्त्राव हो जाता है और भ्रूण बाहर निकल आता है| अगर 2 महीने से ज़्यादा गर्भ रुका है तो गोली इतनी असरकारक ना भी हो और परेशानी बढ़ जाएगी|

३ मंथ के बाद एबॉर्शन कैसे करे हिन्दी मे - Abortion Methods after 3 months Pregnancy in Hindi

  • 12 हफ्ते तक याने 3 महीने गर्भवती महिला के लिए सरिंज गर्भाशय में दाखिल कर के वैक्यूम के सहारे भ्रूण को बाहर निकाला जाता है जो सरल और सुरक्षित पद्धति है| 12 हफ्ते के बाद भी यह तरीका कारगर होता है|
  • डाइलेशन आंड क्यूर्ट्टेज (D&C) में गर्भाशय के मुख को पहले चौड़ा किया जाता है और फिर एक चम्मच जैसे यंत्र से गर्भाशय के अंदर की परत को घिसा जाता है जिससे भ्रूण बाहर आ जाता है|

5 वीक्स का बच्चा गिर जाने पर कितने दिन तक दोबारा प्रेग्नेंट नहीं होना चाहिए – Time Period to wait after Medical Termination of Pregnancy after 5 weeks of Pregnancy in Hindi

  • एबॉर्शन के कितने दिनों बात सेक्स करना वो महिला के स्वास्थ पर आधारित है और अगर वो स्वस्थ हो जाए तो उसी को अंदर से इच्छा जागृत होगी| मगर यह सलाह दी जाती है की संपूर्ण तरीके से गर्भाशय अब भी फिर से गर्भ धारण करने के लिए तैयार नहीं है| 3 महीने तक तो रुके अगर 45 दिवस गर्भपात या तो 5 हफ्ते गर्भवती होने के बाद गर्भपात किया है|
  • लंबे समय तक रुकना उचित है क्योंकि ना सिर्फ़ शारीरिक हालत बल्कि महिला का मानसिक हालत भी सुधरना चाहिए| मर्ज़ी से या तो मजबूरी से गर्भपात का असर दिमाग़ पर गहरा होता है और सदमे से बाहर आ के फिर से साधारण हो जाए तभी गर्भ धारण करने का सोचे| बेहतर और सब से उचित तो यह है की एक साल तक रुके भले इस दौरान संभोग करे कॉन्ट्रासेप्टिव्स का उपयोग करते हुए|

गर्भपात के बाद फिर से महावरी कब आती है - When do Periods start after Abortion in Hindi

  • ऐसा भी है की गर्भपात के 15 दिन सेक्स करने पर प्रेग्नेंट हो सकती है कई महिलाए|
  • मिसकैरेज के बाद प्रेग्नेन्सी इन हिन्दी जानिए की तुरंत भी हो सकती है अगर अंडाशय में से अंडा निकला तो नहीं तो शरीर के पिट्यूटरी ग्रंथि हॉर्मोन्स के स्त्राव को नियंत्रण मे ला दे और अंडे का विकास होने लगे अंडाशय में तब जा के पीरियड आना शुरू होता है| कितनी देरी से गर्भपात किया इस पर भी आधारित है की कितनी जल्दी शरीर के हॉर्मोन्स का संचय साधारण हो जाता है|
  • गर्भावस्था में FSH हॉर्मोन का स्त्राव बंद हो जाता है जिससे अंडे का विकास नहीं होता है और लुटेइनीज़िंग(luteinizing) हॉर्मोन का स्त्राव भी बंद होने पर अंडाशय में से अंडा बाहर नहीं निकल पाता है|
  • साधारण गर्भपात पर एक हफ्ते में हॉर्मोन सभी संतुलन में आ जाते है और FSH और LH हॉर्मोन का स्त्राव बढ़ने लगता है और यह शक्य है की गर्भपात के 15 दिन के बाद ओवुलेशन हो और इसके दो हफ्ते बाद महावरी आ जाए|

यह है गर्भपात के बाद मे सेक्स के बारे मे थोडीसी बाते और फिर से गर्भपात के पश्चात फिर से सेक्स कब करे और फिर से कब गर्भ धारण करना उचित है उसकी जानकारी|

आजकल गर्भपात आसान है मगर उसके असर तो वही है और गहरे भी है तो शरीर को बिल्कुल स्वस्थ होने के लिए समय दे और बाद में बच्चा फिर से बनाने का सोचे|

Gharelu Nuskhe

Leave a Comment

Your Name

Comment

0 Comments